अलग-अलग समय में सांप्रदायिक तनाव और अशांति हो रही हैं: डा.रामजी सिंह

समाचार

गांधी शांति प्रतिष्ठान केन्द्र द्वारा स्थानीय शहीद भगत सिंह स्मारक स्थल घंटाघर में शांति-सद्भाव के लिए एक दिवसीय उपवास का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता पूर्व कुलपति सह सांसद गांधीवादी डा. रामजी सिंह ने किया।

भागलपुर। विगत 17 मार्च 2018 रामनवमी जूलूस के दौरान भागलपुर के चंपानगर में हुए सांप्रदायिक तनाव के कारण भागलपुर सहित बिहार के अलग-अलग जिलों में अलग-अलग समय में सांप्रदायिक तनाव और अशांति हो रही हैं। अपने उदगार में श्री सिंह ने इस पर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि यह  सब कुछ चन्द मुट्ठी भर असामाजिक तत्वों और फिरकापरस्त लोगों के द्वारा सोची-समझी साजिश के तहत राजनीतिक लाभ के लिए किया जा रहा है। उन्होंने ऐसे लोगों से सावधान रहने के साथ-साथ शांतिप्रिय लोगों की सदभाव के लिए आगे आने की अपील की। प्रतिष्ठान के उपाध्यक्ष सह समन्वय समिति के संयोजक प्रकाश चन्द्र गुप्ता ने कहा कि शांति-सद्भाव के लिए ही गांधी शांति प्रतिष्ठान ने सांप्रदायिकता का अहिंसक प्रतिकार करने और शांतिप्रिय नागरिकों को आगे मुखर कर शांति-सद्भाव की कड़ी मजबूत करने के लिए आज एक दिवसीय उपवास का आयोजन किया। ऐसे नेक लक्ष्य व उदे्श्य में सहभागिता दर्ज कराने वालों का उन्होंने आभार प्रकट किया और कहा कि शांति के पुजारी ही समाज के असली प्रहरी हैं। डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि राष्ट्रीय अखंडता, सामाजिक एकता, सांस्कृतिक उन्नति और आर्थिक के साथ-साथ वैश्विक शक्ति के लिए देश और समाज में शांति-सदभाव बहुत जरूरी है। संस्था के सचिव संजय कुमार एवं वासुदेव भाई ने इस उपवास के माध्यम से तमाम लोगों से धर्म की मर्यादा में रहकर धार्मिक उत्सवों को मनाने और किसी भी धर्म के लोगों को ठेस नहीं पहुँचाने का आग्रह किया। वहीं मौके पर मौजूद उपवास पर बैठे अंग उत्थान आन्दोलन समिति, बिहार-झारखंड के केन्द्रीय अध्यक्ष गौतम सुमन ने कहा कि शांति-सद्भाव व सांप्रदायिक माहौल में भाईचारे को कायम रखकर हम अपनी विवेकशीलता और सच्ची मानवता को साबित कर सकते हैं। उन्होंने चन्द मुट्ठी भर फिरकापरस्त के मंसूबे को नाकामयाब कर जिले में शांति-सद्भाव बरकरार रखने और भागलपुर को सांप्रदायिक आग से बचाने हेतु जिला व पुलिस प्रशासन सहित जिले के शांति दूतों और बड़ी तादाद के विवेकशील जनों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि जब तक हमारी विवेकशीलता बची हुई है तब तक फिरकापरस्त लोगों के मंसूबे कामयाब नहीं होंगे। वहीं परिधि के उदय, प्रवीर सुनील अग्रवाल, अर्जून शर्मा, कुमार संतोष, रिजवान खान, ऐनूल हुदा, शाहबाज खान, उमा घोष, डॉ. सुजाता आदि ने भी इस उपवास कार्यक्रम में सहभागिता प्रकट कर भागलपुर सहित बिहार के सभी जिले वासियों से अफवाह और बहकावे से परहेज कर शांति-सद्भाव कायम रखने में आगे आने की अपील की और कहा कि यही सच्ची मानवता है और इस मानवता से बढ़कर कोई धर्म या मजहब नहीं है और न ही इससे बड़ी कोई पूजा या इबादत है। लोगों ने कहा कि मूल्क की तरक्की के लिए यह जरूरी है कि हम अफवाह, बहकावे और सियासी चालों से परहेज कर अपने विवेक से काम लें।

मौके पर दाऊद अली, राज कुमार, मो वाकिर हुसैन, भूदेव मंडल भारती, सुधांशु शेखर, नारायण झा, अविनाश कुमार, जुनिष कुमार, रामपूजन, विपीन कुमार, शंकर पासवान, सुनील प्रसाद यादव, अमन, अंकू सहित अन्य लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम के  अन्त में शांति-सद्भाव के लिए आयोजित इस उपवास स्थल पर बैठे लोगों की सुरक्षा एवं विधि व्यवस्था हेतु मुहैया कराई गई पुलिसकर्मियों और मजिस्ट्रेट नियुक्त करने हेतु वरिय प्रशासन का आभार प्रकट कर सर्व- धर्म-सम्भाव प्रार्थना कर उपवास का समापन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.