कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या एवं बिहार में राजद को अवसर देने की मांग को लेकर महाधरना

समाचार

पटना। कर्नाटक के राज्यपाल के द्वारा लोकतंत्र की की गई हत्या एवं बिहार में सबसे बड़े दल राजद को सरकार बनाने का अवसर देने की मांग को लेकर राष्ट्रीय जनता दल द्वारा आज गर्दनीबाग में विशाल धरना का आयोजन किया गया। प्रदेश अध्यक्ष डा. रामचन्द्र पूर्वे की अध्यक्षता में आयोजित धरना को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने भाजपा पर संवैधानिक मर्यादाओं का हनन एवं लोकतांत्रिक परंपराओं का हत्या करने का आरोप लगाया। वक्ताओं ने कहा कि जिस प्रकार कर्नाटक में सबसे बड़े दल के आधार पर भाजपा विधायक दल के नेता येदुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलायी गई। उसी प्रकार बिहार में सबसे बड़े दल के नाते राजद विधायक दल के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव को भी बिहार का मुख्यमंत्री बनाया जाय।

धरना को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि वे अभी कांगे्रस, हम और सीपीआई माले के नेताओं के साथ राज्यपाल महोदय से मिलकर कर्नाटक की तरह बिहार में सबसे बड़े दल के नेता की हैसियत से सरकार बनाने का अवसर देने की मांग की है। इस संबंध में अन्य दलों द्वारा भी अपना समर्थन पत्र राज्यपाल को दिया गया है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में और इसके पूर्व गोवा, मणीपुर और मेघालय में भाजपा द्वारा जो कुछ भी किया गया है उससे भारतीय संविधान और लोकतांत्रिक व्यवस्था मजाक बन कर रह गया है। भाजपा के खिलाफ सभी दलों को एकजुट होने के लिए राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू जी ने जो आह्वान किया था आज उसकी आवश्यकता सभी महसूस कर रहे हैं। देश के संविधान और लोकतंत्र को बचाने के लिए सभी गैर भाजपा दलों को एक साथ आने की आवश्यकता है।

तेजस्वी यादव ने कर्नाटक के मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि न्यायपालिका के पहल से आज लोकतंत्र की लाज बच गई है। धरना को राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डा. रघुवंश प्रसाद सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्रीमती कांति सिंह सहित अनेक नेताओं ने संबोधित किया। धरना में शामिल लोगों में पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी, प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक कुमार सिंह, डा. तनवीर हसन, रामनारायण मंडल, शोभा प्रकाश कुशवाहा, प्रधान महासचिव आलोक कुमार मेहता, पूर्व मंत्री शिवचन्द्र राम, डा. सुरेन्द्र यादव, शक्ति सिंह यादव, समीर कुमार महासेठ, राजेन्द्र राम, ललित कुमार यादव, विरेन्द्र कुमार सिन्हा, सुदय यादव, प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन, प्रो0 अशोक कुमार, मृत्युंजय तिवारी, देवमुनी सिंह यादव, मदन शर्मा, पंक्षीलाल राय, आभा लता, डा. उर्मिला ठाकुर, कारी सोहैब,  प्रो0 रामबली सिंह चन्द्रवंशी, अरविन्द कुमार सहनी, संजय यादव, विजय कुमार यादव, डा. प्रेम कुमार गुप्ता, पी. के. चैधरी, नन्दू यादव, बल्ली यादव, राजेश पाल, संजीव कुमार मिश्रा, अरूण कुमार यादव, ई. अशोक यादव, निरंजन कुमार चन्द्रवंशी, रतन यादव, ई0 अशोक कुमार सिंह, भाई अरूण कुमार, सत्येन्द्र पासवान, निर्भय अम्बेदकर, सतीश कुमार चन्द्रवंशी, मिश्री राम, रविन्द राय, साधु पासवान, शोभा पासवान, सुनीता यादव, मंजू दास, प्रभावती मांझी सहित हजारों की संख्या में नेता कार्यकर्ता शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.