मतदाताओं को मतदान केंद्र पर मिलेगी सारी सुविधाएं: चंद्रभूषण

समाचार

लोकसभा चुनाव की तैयारी को ले उप मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने की बैठक
मतदान केंद्रों पर बनेगा हेल्प सेंटर
बाॅर्डर इलाके पर रखी जा रही है नजर
नक्सल प्रभावित इलाके में है पूरी तैयारी
भागलपुर/संवाददाता। भारत निर्वाचन आयोग के उप मुख्य निर्वाचन आयुक्त चंद्रभूषण कुमार ने भागलपुर एवं पूर्णिया प्रमंडल में लोक सभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बैठक की। प्रमंडलीय आयुक्त के स्भागार में आयोजित बैठक में पूर्णिया, कटिहार, अररिया, किशनगंज, अररिया, बांका एवं भागलपुर जिले के जिला पदाधिकारी सह निर्वाचन पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक शामिल हुए। लोक सभा चुनाव को लेकर की गई तैयारी की जानकारी सभी जिलाधिकारी से उन्होंने ली। बैठक में विधि व्यवस्था संधारण, मतदाता जागरूकता अभियान, इवीएम वीवीपैट, आदर्श आचार संहिता के सथ-साथ सभी प्रमुख बिंदुओं पर विस्तार सं चर्चा की गई। सभी जिला पदाधिकारी से बारी बारी से उस जिले में चुनाव की तैयारी की जानकारी चुनाव आयोग की टीम ने ली। पुलिस अधीक्षक ने विधि व्यव्स्था के लिये किये गये तैयारियों की जानकारी दी। बैठक में बिहार के मुख्य निर्वाचन आयुक्त एचएन श्रीनिवासन, एडीजीपी अभियान कुंदन कृष्णन,आईजी अभियान सुशीलमान सिंह खोपड़े, भागलपुर की आयुक्त वंदना किनी, पूर्णिया प्रमंडल के आयुक्त, डीआईजी के साथ-साथ कई विभागीय पदाधिकारी मौजूद थे।
बैठक के उपरांत संवाददाताओं को संबोधित करते हुए उप मुख्य निर्वाचन आयुक्त चंद्रभूषण कुमार ने कहा कि दूसरे चरण में जहां-जहां चुनाव होना है वहां के जिला निर्वाचन पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक की बैठक बुलाई गई थी। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग का हमेशा प्रयास रहता है कि चुनाव के दौरान कही किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो। इसके लिए आयोग जगह जगह तैयारियों का परीक्षण करती रहती है। उन्होंने कहा कि आने वाले चुनाव में सभी मतदाता मतदान केंद्र पर कैसे पहुंचे, वे नैतिक तरीके से कैसे मतदान कर सके, इसके लिये आयोग पूरी तैयारी कर रही है। उन्होंने कहा कि जिला निर्वाचन पदाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने तैयारी पर जो रिपोर्ट दिया है उससे वे संतुष्ट हैं। उन्होंने बताया कि चुनाव तैयारियों की जानकारी समय-समय पर जिला निर्वाचन पदाधिकारी उपलब्ध कराते रहेंगे।
उप मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने बताया कि बाॅर्डर इलाके में सुरक्षा का पूरा ख्याल रखा जा रहा है। प. बंगाल से सटे क्षेत्रों में एक साथ चुनाव कराया जा रहा है ताकि किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो। उन्होंने बताया कि गलत लोगों पर नजर रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि नक्सल प्रभावित इलाके में आयोग की पूर्व से तैयारी रहती है। वहां राज्य पुलिस के साथ पारा मिलिट्री फोर्स को लगाया गया है। उन्होंने कहा कि असामाजिक तत्वों पर कानून के दायरे में रहकर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि मतदाताओं को दिया जाने वाला मतदाता पर्ची सिर्फ उनके लिये सूचना भर होगा। इस पर्ची के आधार पर मतदान नहीं किया जा सकेगा। इसके लिये 12 अलग-अलग डाॅक्यूमेंट में से किसी एक पर मतदान किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि मतदाताओं की सुविधा के लिये सभी मतदान केंद्रों पर एक हेल्प सेंटर रहेगा जहां मतदाताओं की समस्याओं का समाधान किया जाएगा। यह सेंटर पूरे मतदान के समय तक रहेगा।