साहित्य : चीरहरण को देख कर, दरबारी सब मौन

चीरहरण को देख कर, दरबारी सब मौन ! प्रश्न करे अँधराज पर, विदुर बने वो कौन !! ★★★ राम राज के नाम पर, कैसे हुए सुधार ! घर-घर दुःशासन खड़े, रावण है हर द्वार !! ★★★ कदम-कदम पर हैं खड़े, लपलप करे सियार ! जाये तो जाये कहाँ, हर बेटी लाचार !! ★★★ बची कहाँ
Complete Reading

( संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रियाओं में बदलाव, व्यवस्थाओं में बदलाव, स्वरूप में बदलाव आज समय की मांग है. भारत के लोग संयुक्त राष्ट्र के सुधारों को लेकर लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं. आज संयुक्त राष्ट्र को भारत कि तर्ज पर कार्य करने की अहम जरूरत है. हम पूरे विश्व को एक परिवार मानते
Complete Reading

पटना। बिहार के राज्यपाल सह कुलाधिपति फागू चौहान ने राज्य के छह विश्वविद्यालयों में कुलपतियों की नियुक्ति कर दी है। मुख्यमंत्री सुबह 11.30 बजे राजभवन गये थे समझा जाता है कि करीब डेढ़ घंटे राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच सर्च कमेटी द्वारा विभिन्न विश्वविद्यालयों के कुलपति तथा प्रति कुलपतियों के लिए सुझाए गए नामों पर
Complete Reading

हिन्दी दिवस पर चित्तरंजन में किसलय ने किया द्विभाषी आयोजन चितरंजन(प. बंगाल)। स्थानीय अमलादहि स्थित जनरव सांस्कृतिक क्लब के कार्यालय में सोमवार की देर शाम हिन्दी दिवस का आयोजन किया गया। इस आयोजन में हिन्दी व बंगला जगत के साहित्यकारों ने अहिन्दी भाषी क्षेत्र में हिन्दी का विकास कैसे विषय पर अपने सारगर्भित विचार रखे।विषय
Complete Reading

चारो ओर शौर दे रहा है सुनाई , आज हिंदी दिवस है भाई । आज हिंदी दिवस है भाई ।। परंतु क्या हिंदी के लिए एक दिन ही काफी है ? यह तो इसके साथ सरासर ना इंसाफी है । हिंदी से ही हमारी संस्कृति विकास करती है, यह भाईचारे और सौहार्द्र में विस्वास करती
Complete Reading

( हरियाणा सरकार का तुगलकी आदेश निम्न स्तर के बच्चों को सरकारी नौकरी में ला रहा है. मेरिट वाले मेहनती और प्रतिभाशाली बच्चों के लिए हरियाणा में नौकरी के चांस न के बराबर हो गए है. वोट बैंक के लिए गरीबी और सरकारी नौकरी का हवाला देकर हरियाणा के आने वाले भविष्य को तबाह करने
Complete Reading

(हिंदी दिवस विशेष ) (मातृभाषा में पढाई वैचारिक समझ के आधार पर एक घरेलू प्रणाली के साथ सीखने और परीक्षा-आधारित शिक्षा की रट विधि को बदलने में मदद करेगा। जिसका उद्देश्य छात्र के अपनी भाषा में ज्ञानात्मक कौशल को सुधारना है, ताकि वह अन्य भाषाओँ के बोझ तले न दब सके और चाव से अपनी
Complete Reading

विभुरंजन आज माँल में क्या नहीं मिल रहा है ? छड़, सीमेंट और बालु छोड़ कर सभी सामग्री उपलब्ध है भाई। अब ये तमाम सामग्री के थोक बिक्रेता पर ध्यान दें- लगभग सभी समानों का होल सेल/वितरक/CNF “वैश्य” के हाथों में होता था, जिसमें मारवाड़ी समाज सबसे आगे था। बांकी हाँल सेल का काम अन्य
Complete Reading

विभुरंजन बगैर एकजुटता की अपनी शान को बचाना संभव नहीं है। आन-बान-शान की रक्षा के लिए अब यदि एकजुट नहीं हुए तो आने वाले दिनों में आपकी दुर्दशा पर आंसू बहाने वाले कोई नहीं मिलेगें और इस दुर्भाग्य के लिए अपने पुर्वजों को कोसेंगे कि समय रहते एक होने के लिए हमें जागृत नहीं किया।
Complete Reading

डॉo सत्यवान सौरभ लॉकडाउन की वजह से दुनियाभर में लोग घरों में है। तेल की मांग में कमी की यह भी एक बड़ी वजह है। दुनिया के पास फिलहाल इस्तेमाल की ज़रूरत से ज़्यादा कच्चा तेल है और आर्थिक गिरावट की वजह से दुनियाभर में तेल की मांग में कमी आई है। तेल के सबसे बड़े
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account