अंग क्षेत्र एवं कोशी में वज्रपात से हुयी मौत पर मुख्यमंत्री ने शोक व्यक्त किया

पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अंग क्षेत्र एवं कोशी के विभिन्न जिलों में आंधी एवं बारिश के दौरान वज्रपात से हुयी 9 लोगों की मौत पर गहरा दुख एवं शोक व्यक्त किया है। उन्होंने मृतक के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करते हुये मृतकों की आत्मा की शांति के लिये ईश्वर से प्रार्थना की। […]

Continue Reading

दिल्ली में रहते हैं लगभग 25 लाख अंगिका भाषी, लोकभाषा के बगैर लोग गूँगे के समान हैं : संजय

दिल्ली में भी अंगिका अकादमी गठन करने-कराने की माँग को लेकर आम आदमी पार्टी के राज्य सभा सांसद सह पार्टी के बिहार प्रभारी संजय सिंह को अखिल भारतीय अंगिका साहित्य कला मंच ने सौंपा माँग पत्र भागलपुर। बिहार-झारखंड के लगभग 6-7 करोड़ लोगों की लोकभाषा अंगिका को भारतीय संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने […]

Continue Reading

आखिर नरक निगम केऽ नारकीय दुर्दशा रो भेंट चढि गेलय साहित्य साधक सुरेन्द्र जैनः गौतम

भागलपुर। उम्र केॅ आखिरी पड़ाव मेॅ भी धूप आरू छाँव केॅ परवाह करलेॅ बगैर कभियोॅ अपनोॅ गोर केॅ नै रोकय वाला साहित्य साधक उर्फ टाॅफी चचा सुरेन्द्र जैन आखिर नरक निगम केॅ नारकीय दुर्दशा रोॅ भेंट चढ़ि गेलय। दरअसल हुनकोॅ घर नाथ नगर कबीरपुर पथ स्थित जैन मंदिर केॅ निकट छेलय आरू एक लंबा समय […]

Continue Reading

नवोदय से रिटायर कलाकार आर्थिक तंगी के शिकार, इलाज कराने के लिए चंदे की दरकार

रवि जी साहित्यकार के साथ-साथ ऐतिहासिक तथ्यों पर बड़ी महीनी से अनुसंधान करते हैं। आज इनकी खोज से आप को रू-ब-रू करा रहा हूँ। रवि उद्देश्य नवोदय से रिटायर कलाकार,  अब हैं आर्थिक तंगी के शिकार। इलाज कराने के लिए अब, पड़ रही है चंदे की दरकार । सरकार भी नहीं सुनती, अब कौन करेगा […]

Continue Reading

अंगिका गीत को स्वर देने वाले प्रथम गायक को श्रद्धासुमन अर्पित करना भी लाजमी नहीं समझते अंग वासी

बासुकी पासवान *”यदुनंदन जी” जिसने अंग भूमि की माटी को अपने सूरो मे उतारा । *यदुनंदन के गीतो ने दी थी अंग भूमि को सम्मान । * वह ताउम्र गाता रहा ,गुनगुनाता रहा * भूला दिये गये , अंगिका के पहले गीतकार * एच एम भी मे हुई थी उनके गीतो की रिकाॅडिंग बहुत कठिन […]

Continue Reading

अंगिका भाषा के समुचित सम्मान व अधिकार के लिए कहलगाँव में मंत्री श्री वर्मा को सौंपा अनुरोध पत्र

नीतिश कुमार ने 23 जून 2015 को अंगिका अकादमी का गठन किया सुशासन व इस लोकतंत्र में किसी भी लोकभाषा के साथ उपेक्षित रवैया अनुचित है, मातृभाषा के बगैर लोग गूँगे हो जाते हैं और फिर अपनी अस्मिता व अस्तित्व को सम्मान की माँगें लोगों का अधिकार है कोई भीख नहीं है।   गौतम सुमन […]

Continue Reading