जब जैसा, तब तैसा।चतुर को लाज कै

संपादकीय  कौन देशभक्त है और कौन नहीं यह निर्णय करना राजनीतिक दलों का काम नहीं है। क्योंकि राजनीति में कोई नीति नहीं होती है। इसके लिए यह लोकोक्ति सटीक लगती है–“जब जैसा तब तैसा,चतुर को लाज कैसा”। राजनीति और कुछ नहीं सिर्फ चतुराई का खेल है। यह निर्लज्ता की प्रौढ़तम कला है। जिन अपकर्मों की […]

Continue Reading

बड़ी खबर- पूर्व डीजीपी के एस द्विवेदी होंगे भागलपुर से भाजपा के कैंडिडेट

विभुरंजन     बड़ी खबर आ रही है कि बिहार के पूर्व डीजीपी के एस द्विवेदी भाजपा उम्मीदवार के रूप में भागलपुर सीट से चुनाव मैदान में उतारेंगे। जानकारी निकल कर सामने आ रही है की उन्हें (एस द्विवेदी को) टिकट देकर मैदान में उतार सकती है। इससे भागलपुर कांग्रेस को बड़ा झटका लग सकता […]

Continue Reading