ये कैसी लापरवाही, सालभर से एक ही शिक्षिका 25 जगह थी नियुक्त, अब हुयी गिरफ्तार

ये कैसी लापरवाही, सालभर से एक ही शिक्षिका 25 जगह थी नियुक्त, अब हुयी गिरफ्तार


उत्तर प्रदेश फर्जीवाड़ाःः कितना सच कितना झूठ

उत्तर प्रदेश(संवाददाता)। यूपी पुलिस के हत्थे एक ऐसी शिक्षिका चढ गयी जो विगत एक वर्ष से एक ही नाम से 25 स्कूलों में नौकरी कर रही थी और वेतन भी सभी स्कूलों से ले रही थी। आधार कार्ड से सभी बैंक खाता लिंक कर दिया गया है, उसमें भी वेतन पाने वाले के एकाउंट में वेतन की राशि कैसे जा रही थी यह तो हैरत की बात है जबकि खाता आधार से लिंक है। 
इमानदार मुख्यमंत्री के शासन के किन लोगों का संरक्षण इन्हें प्राप्त था यह तो अब जांच के बाद ही पता चल पायेगा लेकिन यह कहना कि शिक्षिका फर्जीवाड़ा कर नौकरी कर रही थी और वेतन ले रही थी कुछ हजम नहीं हो रहा है।उन तमाम 25 विद्यालय के प्रधानाचार्य किन  परिस्थितियों में इनका उपस्थित बना रहे थे। किसके दबाव में इनके अनुपस्थिति को भी उपस्थित में बदलकर वेतन भुगतान दिया जाता रहा। आखिर जांच ही अब उपाय है कि सभी प्रधानाचार्य कितने दोषी हैं, विद्यालय निरीक्षक, जिला शिक्षा पदाधिकारी किस रूप से इस गुनाह को संरक्षण देते रहे।हैरान करनेवाली बात तो यह है कि एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ाने वाली इस शिक्षिका ने एक वर्ष में 1 करोड़ रूपये की कमायी की है। कासगंज पुलिस शनिवार को फर्जी तरीके से ड्यूटी करने वाली शिक्षिका अनामिका शुक्ला को गिरफ्तार की।
बेसिक शिक्षा अधिकारी अंजलि अग्रवाल ने बताया कि दस्तावेज जांच के क्रम में शिक्षिका के कारनामे का खुलासा होने पर विगत दिनों अनामिका शुक्ला नाम के सभी शिक्षिका को एक साथ निलंबित कर दिया गया था। जबकि अनामिका शुुक्ला कस्तूरबा विद्यालय फरीदपुर में विज्ञान की शिक्षिका के रूप में काम कर रही थी।
मामले की गंभीरता को देखते हुए वो शनिवार को अपना इस्तीफा सौंपने आयी थी, यहीं से उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया।

admin

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account